■ अभी तक अव्यवस्थाओं को लेकर सुर्खियों में रहती थी जेल ■ अवार्ड देने के मामले में हो गया खेल  ■केंद्रीय जेल को  मिला आईएसओ अवार्ड

■ अभी तक अव्यवस्थाओं को लेकर सुर्खियों में रहती थी जेल ■ अवार्ड देने के मामले में हो गया खेल ■केंद्रीय जेल को मिला आईएसओ अवार्ड

  20 Jun 2022

उज्जैन। यूं तो उज्जैन की केंद्रीय जेल अक्सर यहां की अव्यवस्थाओं और जेल में बंद कैदियों को होने वाली परेशानियों के कारण सुर्खियों में रहती है पर फिर भी उज्जैन की इस केंद्रीय जेल को अब बेहतर व्यवस्थाओं के लिए आईएसओ अवॉर्ड दे दिया गया है।
उज्जैन की भैरवगढ़ स्थित केंद्रीय जेल अभी तक अमूमन इन वजहों से सुर्खियों में रहती थी कि किसी कैदी की जेल में संदेहास्पद मौत गई है।,जेल में मुलाकात के नाम पर कैदियों के परिजनों से पैसा मांग जा रहा है। सलाखों के पीछे सजा काट रहे कैदियों को सही खाना नहीं मिल रहा है या फिर जेल के भीतर बाहर से मादक पदार्थों की सप्लाई हो रही है। पर इस बार खबर थोड़ी हटकर है दरअसल बेहतर व्यवस्थाओं के लिए केंद्रीय जेल भेरूगढ़ को आईएसओ अवार्ड प्रदान किया गया है सोमवार को अपर सत्र न्यायाधीश अरविंद कुमार जैन,जेल मुख्यालय डीआईजी एम आर पटेल, आईएसओ टीम के प्रभारी विनय शर्मा और महिमा पटेल पहुंचे उकेंद्रीय जेल उज्जैन पहुंचे

और जेल अधीक्षक उषा राज को आईएसओ अवार्ड से सम्मानित किया। दरअसल जेल को यह अवार्ड अच्छी व्यवस्थाओं को देखते हुए दिया गया है। इस दौरान आईएसओ अवार्ड देने आई टीम ने जेल की व्यवस्थाओं खासकर साफ सफाई और स्वच्छ अभियान के पालन को लेकर प्रसन्नता व्यक्त की। इसके साथ ही वाटरफॉल पत्थर से बनाया गये लॉयन और देश के राष्ट्रीय कलर का उपयोग कर पत्थरों की प्रतिमा पर आर्मी के जवान की आकृति, बच्चों के लिए झूला घर मुलाकात करने आने वाले बंदियों के परिजनों के लिए शैडो, झूला घर, पेपर स्टैंड,कैंटीन, पूछताछ केंद्र जैसी व्यवस्थाओं को सराहा। इस दौरान जेल मुख्यालय से पहुंचे डीआईजी एम आर पटेल द्वारा आकस्मिक निरीक्षण किया गया,बहरहाल अव्यवस्थाओं के कारण अक्सर सुर्खियों में रहने वाली केंद्रीय जेल को जिस तरह से आईएसओ अवार्ड मिला है उससे लगता है कि जेल को अवार्ड देने में खेल हो गया है

 5 total views

Share