भक्तों की भलाई के लिए माँ हरसिद्धि ने धारण मनमोहक स्वरूप, नवरात्रि में चोला छोड़ने पहली बार नए स्वरूप में दिए दर्शन

भक्तों की भलाई के लिए माँ हरसिद्धि ने धारण मनमोहक स्वरूप, नवरात्रि में चोला छोड़ने पहली बार नए स्वरूप में दिए दर्शन

  15 Apr 2022

■ माँ हरसिद्धि ने धारण किया नया और मनमोहक स्वरूप
■ चोला छोड़ने के बाद नए स्वरूप में दिये दर्शन
■ भक्तों ने पहली बार देखा माँ का मनोहारी रूप
■ कन्यापूजन के साथ हुआ कन्याभोज

■ सिटी चैनल न्यूज नेटवर्क
उज्जैन। अपने भक्तों की भलाई के लिए चैत्र नवरात्रि में चोला छोड़ने वाली जगतजननी माँ हरसिद्धि ने अब स्वरूप धारण कर लिया है। गुरुवार को मा हरसिद्धि ने अपने इसी मनोहारी स्वरूप में अपने भक्तों को दर्शन दिए। इस दौरान मंदिर में उत्सवी माहौल रहा और कन्या पूजन के साथ कन्या भोज और बटुक भोज का आयोजन रखा गया।
यहाँ आपको बता दें कि चैत्र नवरात्रि में 51 शक्ति पीठों में एक हरसिद्धि मंदिर में नवरात्रि में माता हरसिद्धि ने अपना चोला छोड़ा दिया था। गुरुवार को माँ हरसिद्धि को नया चोला चढ़ाया गया। इस दौरान मंदिर को आकर्षक विद्युत सज्जा से सजाया गया था वही मंदिर प्रांगण में कन्या भोज, बटुक, ब्रह्मण भोज का आयोजन किया गया। मंदिर के पुजारी राजू गिरी गोस्वामी के मुताबिक नवरात्रि के दौरान चोला छोड़ने के बाद मां हरसिद्धि का नया मनमोहक श्रृंगार किया गया है और चोला चढ़ाया गया है, जिससे माँ हरसिद्धि का नया स्वरूप निखरकर सामबे आया है। बड़ी संख्या में भक्त माँ के इस स्वरूप के दर्शन के लिए पहुंचे हैं। इस दौरान दीप मालिका भी प्रज्ज्वलित की गई। माँ हरसिद्धि के नए मनोहारी रूप के दर्शन के लिये पहुंचे भक्तों ने इस दौरान यहाँ आयोजित कन्या भोज, ब्राम्हण भोज और बटुक भोज में प्रसादी भी ग्रहण की। उल्लेखनीय है कि चैत्र नवरात्रि में माँ हरसिद्धि के चोला छोड़ने के बाद चोले का भव्य विसर्जन चल समारोह निकाला गया था जिसमें बड़ी संख्या में धर्मालु शामिल हुए थे।

 173 total views

Share