Breaking News
Breaking News
पालने में झूलेंगे बच्चे, मम्मी करेंगी मतदान,हर मतदान केंद्र पर लगेगा झूला, बच्चों को संभालने के लिए आशा कार्यकर्ता भी रहेगी मौजूद

पालने में झूलेंगे बच्चे, मम्मी करेंगी मतदान,हर मतदान केंद्र पर लगेगा झूला, बच्चों को संभालने के लिए आशा कार्यकर्ता भी रहेगी मौजूद

  11 Apr 2019

कलेक्टर ने एसपी और अपर कलेक्टर के साथ ली प्रेस कांफ्रेंस

■वीवीएस सेंगर

उज्जैन। ऐसी मम्मी जिनके बच्चे गोद में हैं उन्हें मतदान केन्द्र तक लाने और वोट डलवाने के लिए चुनाव आयोग एक अभिनव प्रयोग करने जा रहा है। इस बार हर मतदान केंद्र पर एक झूले के साथ आशा कार्यकर्ता की व्यवस्था रहेगी जो न केवल बच्चे को न केवल पालने में झुलायेंगी बल्कि तब तक संभालेगी जब तक उसकी माँ वोट डालकर नहीं आ जाती। दरअसल 19 मई को होने वाले उज्जैन आलोट संसदीय सीट के लिये होने वाले लोकसभा चुनाव को शांतिपूर्ण और निष्पक्ष संपन्न कराने के लिये प्रशासन और पुलिस द्वारा लगातार चुनाव आयोग से मिले होमवर्क को कम्प्लीट किया जा रहा है।बेशक मतदान चिलचिलाती धूप और भीषण गरमी में होगा लेकिन कोशिश यही है कि अधिक से अधिक लोग अपने मताधिकार का प्रयोग करें और मतदान का प्रतिशत बढ़े। लिहाजा इसके लिए कुछ अभिनव प्रयोग भी किये जा रहे हैं। मसलन पहली बार हर मतदान केंद्र पर झूले की व्यवस्था इसलिए की जा रही है ताकि वे महिलाएं जो अपने छोटे बच्चों के कारण मतदान करने नहीं आती हैं उन्हें मतदान केंद्रों तक वोट डालने के लिए लाया जा सके।

खास बात ये है कि हर मतदान केंद्र पर झूले के साथ बच्चों को संभालने ले लिए आशा कार्यकर्ता भी मौजूद रहेगी जो तब तक बच्चों को संभालेंगी जब तक उसकी मां वोट डालकर नहीं आ जाती। बुधवार को कलेक्टर और जिला निर्वाचन शशांक मिश्र, अपर कलेक्टर ऋषभ गुप्ता और पुलिस अधीक्षक सचिन अतुलकर ने प्रेस कांफ्रेंस ली और लोकसभा चुनाव को लेकर की जा रही तैयारियों के संबंध में जानकारी दी। इस दौरान ये जानकारी भी दी गई कि ऐसे मतदाता जिनका वोटर आईडी नहीं बना है वो 19 अप्रैल तक अपना वोटर आई बनवा सकते हैं इसके लिए वे अपने पोलिंग बूथ के बीएलओ से संपर्क कर जरूरी फॉर्मिलिटीज पूरी कर सकते हैं।

प्रेस कांफ्रेंस में कलेक्टर ने जानकारी दी कि मतदाता अपनी पहचान के लिए केंद्र और राज्य सरकार द्वारा जारी किए गए सभी पहचान पत्र मान्य होंगे। वहीं 19 मई को चुनाव संपन्न होने तक सभी तरह के ओपीनियन पोल पर पाबंदी रहेगी। इस दौरान कलेक्टर ने जानकारी दी कि चुनावी प्रक्रिया को और पारदर्शी बनाने के लिए इस बार पहली बार ईवीएम के परिवहन के लिए जीपीएस लगे वाहनों का इस्तेमाल किया जाएगा। कलेक्टर के मुताबिक चुनाव आयोग के निर्देश अनुसार बैंक अधिकारियों को सूचित किया गया है कि किसी भी संदेहास्पद लेनदेन के संबंध में तुरंत प्रशासन को सूचना दें। उन्होंने सहकारी बैंकों को भी इस दायरे में भी लाने की बात कही।कलेक्टर के मुताबिक कोई भी सर्विस वोटर मतदान से वंचित न रहे इसके लिये सभी को पोस्टल बैलेट से मतदान करने के लिए जागरूक किया जा रहा है। इस दौरान एसपी ने चुनाव को लेकर की जा रही तैयारियों को लेकर जानकारी दी और निष्पक्ष और शांतिपूर्ण मतदान कराने के लिए की जा रही तैयारियां के बारे के जानकारी दी।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *