Breaking News
Breaking News
गाय के गोबर से बनेगा’गौकाष्ठ’,मौनीबाबा आश्रम ने पेश की मिसाल, प्रदेश की पहली गौकाष्ठ यूनिट की स्थापित

गाय के गोबर से बनेगा’गौकाष्ठ’,मौनीबाबा आश्रम ने पेश की मिसाल, प्रदेश की पहली गौकाष्ठ यूनिट की स्थापित

  09 Feb 2019

वीवीएस सेंगर

उज्जैन। अगर सब कुछ ठीक रहा तो पूरे प्रदेश में गोबर से ‘गौकाष्ठ’ बनने का काम शुरू हो जाएगा। दरअसल उज्जैन के मौनीबाबा आश्रम की गौशाला में गायों के गोबर से गौकाष्ठ बनाने की विधि देखकर प्रभारी मंत्री सज्जनसिंह वर्मा ने ये बात कही है।दरअसल मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार में लोक निर्माण और पर्यावरण मंत्रालय की जिम्मेदारी संभाल रहे उज्जैन जिले के प्रभारी मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने रविवार को मौनीबाबा आश्रम में प्रदेश की पहली गोबर से निर्मित की जाने वाली गौकाष्ठ की यूनिट का शुभारंभ किया। दरअसल रविवार को वे उज्जैन दोपहर करीब 2 बजे वे उज्जैन पहुंचें और यहाँ सर्किट हाउस पर जनप्रतिनिधियों और कांग्रेस कार्यकर्ताओं से मुलाकात की।

इसके बाद वे मंगलनाथ रोड स्थित संत श्री मौनी बाबा के आश्रम गए और यहाँ संत श्री सुमन महाराजजी से मुलाकात करने के साथ ही गोबर से निर्मित होने वाली ‘गौकाष्ठ’ की प्रदेश की पहली यूनिट का शुभारंभ किया। मौनी बाबा आश्रम से जुड़े अभिभाषक कैलाश विजयवर्गीय के मुताबिक मौन तीर्थ में देशी गौमाता के गोबर से पर्यावरण संरक्षण,पर्यावरण संतुलन, पर्यावरण परिशोधन,वृक्ष संपदा के संरक्षण हेतु अत्याधुनिक मशीनों से निर्मित होने वाली ‘गौकाष्ठ’ की प्रदेश की पहली यूनिट तैयार की गई है। जिसका प्रभारी मंत्री सज्जनसिंह वर्मा लोकार्पण किया।

कार्यक्रम की अध्यक्षता विधायक रामलाल मालवीय की।इस यूनिट में तैयार होने वाली ‘गौकाष्ठ’ का आश्रम में हो रहे 108 वर्षीय अखंड महायज्ञ में समिधा के रूप में इस्तेमाल किया जाएगा। गौकाष्ठ निर्मित करने की यूनिट देखकर प्रभारी मंत्री ने इसे मॉडल के रूप में अपनाकर प्रदेश में हर पंचायत में स्थापित की जा रही गौशालाओं में शुरू करने की बात कही। उन्होंने कहा कि वे इसके बारे में मुख्यमंत्री से चर्चा करेंगे।यहां आपको बता दें कि गोबर से गौकाष्ठ निर्मित करने की विधि काफी सरल है। आश्रम से जुड़े पूर्व पार्षद हेमंत विजयवर्गीय के मुताबिक इसमें गोबर को मशीन से होकर गुजारा जाता है जो करीब ढाई ढाई फ़ीट के लट्ठे के रूप में बाहर निकलता है जिसे सूखा लिया जाता है जिसे बाद में लकड़ी (गौकाष्ठ)के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। प्रभारी मंत्री ने यहां ब्रहमलीन श्री मौनी बाबा की मूर्ति को नमन करने के बाद वसन्त पंचमी पर्व पर मां सरस्वती का पूजन-अर्चन किया। इस अवसर पर विधायक महेश परमार, जिला पंचायत अध्यक्ष करण कुमारिया, कमल पटेल, महेश सोनी, आईजी राकेश गुप्ता, कलेक्टर शशांक मिश्र, पुलिस अधीक्षक सचिन अतुलकर आदि उपस्थित थे।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *