Breaking News
Breaking News
सोमवती अमावस्या पर उज्जैन में लघु कुंभ का नजारा,रामघाट पर शिप्रा में लगाई जा रही है आस्था की डुबकी

सोमवती अमावस्या पर उज्जैन में लघु कुंभ का नजारा,रामघाट पर शिप्रा में लगाई जा रही है आस्था की डुबकी

  04 Feb 2019

प्रशासन और पुलिस ने किये बेहतर इंतजाम, धर्मालु प्रशासन की व्यवस्थाओं से खुश

◆सोमतीर्थ कुंड और महाकालेश्वर मंदिर में धर्मलुओं की भीड़

■वीवीएस सेंगर

उज्जैन। भूतभावन बाबा महाकाल की नगरी और तीर्थ भूमि उज्जैन में आज लघु कुम्भ का नजारा है। दरअसल सोमवती अमावस्या पर यहाँ श्रद्धा का सैलाब उमड़ा है। हजारों की संख्या में धर्मालु सोमवती अमावस्या के मौके पर पुण्य सलिला मोक्षदायिनी शिप्रा में स्नान करने उज्जैन पहुंचे हैं और रामघाट सहित शिप्रा के अन्य घाटों पर आस्था की डुबकी लगा रहे हैं। दरअसल इस बार सोमवती अमावस्या के साथ मौनी अमावस्या का भी संयोग बना है लिहाजा बड़ी संख्या में धर्मालु शिप्रा में आस्था की डुबकी लगा रहे हैं और पुण्य लाभ कमा रहे हैं। प्रशासन ने रामघाट सहित सभी घाटों पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। न केवल गोताखोरों की टीम लगाई गई है बल्कि 2000 लाइफ सेविंग जैकेट का भी इंतजाम किया गया है। वहीं तैराकों की टीम नाव से नदी में लगातार पेट्रोलिंग कर रही है।खास बात ये है कि कलेक्टर शशांक मिश्रा और एसपी सचिन अतुलकर स्वयं सोमवती अमावस्या की व्यवस्थाओं की मॉनिटरिंग कर रहे हैं।

रामघाट पर तो आस्था का सैलाब उमड़ा ही है रणजीत हनुमान मंदिर के समीप स्थित सोमतीर्थ कुंड पर भी धर्मालुओं की भीड़ है। बड़ी संख्या में लोग यहां पौराणिक महत्व के सोमतीर्थ कुंड में स्नान कर रहे हैं और यहां स्थित जल्पेश्वर महादेव के दर्शन पूजन कर यहां स्थित प्राचीन पीपल वृक्ष की परिक्रमा कर रहे हैं। इस बार सोमतीर्थ कुंड की पौराणिक महत्ता को देखते हुए प्रशासन ने यहां भी बेहतर इंतजाम किए हैं और न केवल कुंड में स्वच्छ पानी की व्यवस्था की है बल्कि कुंड के आसपास सुरक्षा के लिहाज से बेरकेटिंग की है। वहीं जल्पेश्वर महादेव मंदिर में भी दर्शन के लिए बेहतर व्यवस्था की है।

शिप्रा में आस्था की डुबकी लगाने के बाद धमालु महाकालेश्वर मंदिर आकर भगवान महाकाल के दर्शन कर रहे हैं।लिहाजा राजाधिराज बाबा महाकाल के दरबार में धर्मालुओं की भीड़ है। लिहाजा यहां भी दर्शनार्थियों की भारी भीड़ को देखते हुए दर्शन व्यवस्था बाहर से रखी गई है और श्रद्धालुओं को नंदी हाल के बाद बने बैरिकेटस से राजाधिराज बाबा महाकाल के दर्शन कराए जा रहे हैं

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *